Sale!

मेरी जिजीविषा

Rs.199.00 Rs.100.00

This delightful book is the latest in the series, This will be available soon.You can order this book in advance with discount price.

Category: Tags: , Product ID: 3060

Description

जिजीविषा का अर्थ होता है, जीने की इच्छा, या फिर जीवन के प्रति मोह. इंसान को जीवन के प्रति मोह रिश्तों की वजह से होता है. दूसरे इंसानों से परस्पर संबंध ही उसके जीने की इच्छा को बनाए रखते हैं. ‘मेरी जिजीविषा’ ऐसी ही कुछ लघु कथाओं का संग्रह है, जो इंसानी रिश्तों औऱ जज़्बातों को शब्दों में पिरोने की कोशिश करती हैं.

इनमें से हर एक कहानी अलग तरह से रिश्तों के अलग-अलग आयामों को दिखाती है. ‘जश्न’ से लेकर ‘पीहू’ तक हर कहानी आपको अपनी ज़िंदग़ी के खूबसूरत रिश्तों और उनसे जुड़े खट्टे-मीठे अनुभवों की याद दिलाएगी. आम इंसान के जीवन का आईना दिखाती ये कहानियां, आपकी भावनाओं को छूकर आपको अपनी ज़िंदग़ी में रिश्तों की अहमियत का एहसास करा जाएंगी.

 

About the Author:

लेखिका प्राची त्रेहन मूल रूप से जयपुर से हैं और आजकल गुड़गांव में एक बहुराष्ट्रीय कंपनी के लिए हिंदी भाषाविद के तौर पर काम कर रही हैं. हिंदी पढ़ते-लिखते इनका बचपन बीता है, इसलिए इस भाषा से इनका कुछ खास लगाव है. कहानियों की दुनिया से इनकी पहचान लड़कपन में हुई थी और उसी दुनिया को साकार करने के लिए इन्होंने लिखना शुरू किया.

ज़िंदग़ी को एक अनुभवों से भरा एक सफ़र मानने वाली, प्राची, खास तौर पर रिश्तों और भावनाओं से जुडी कहानियां लिखना पसंद करती हैं. यह कहानी-संग्रह लेखन की दुनिया में इनका पहला कदम है. इसमें शामिल की गईं सभी कहानियां कहीं न कहीं असल ज़िंदगी से प्रेरित नज़र आती हैं.


Reviews

There are no reviews yet.

Only logged in customers may leave a review.