Sale!

अवधेश की कलम से

Rs.199.00 Rs.150.00

This delightful book is the latest in the series, This will be available soon.You can order this book in advance with discount price.

Description

About the Book :

बाल्यकाल से ही लेखन में मेरी बहुत रुचि थी। जब उस समय कुशाग्र बुद्धि होने के कारण कविताएँ एक ही बार में कंठस्थ हो जाया करती थीं। हिंदी भी माता शारदा की कृपा से अच्छी रही। जब कक्षा 9 में आया तब प्रथम बार स्वयं की लिखी हुई कविता स्वतंत्रता दिवस के कार्यक्रम में सुनाई जिसे बहुत सराहा गया। दुर्भाग्यवश आज वह कविता मेरे पास लिखित रूप में उपलब्ध नही है। कभी कभी लेखनी चल जाया करती थी। कभी किसी डायरी में तो कभी किसी अभ्यास पुस्तिका के अंतिम पृष्ठों पर कविताएँ लिख देता था। दिल्ली विश्वविद्यालय से स्नातक करने पश्चात एक टेक सपोर्ट कम्पनी में डेस्कटॉप सपोर्ट इंजीनियर के पद पर कार्य प्रारम्भ किया। खाली समय में कुछ लिख लिया करता था और फेसबुक व व्हाट्सएप पर डाला करता था। वर्ष 2014 में विवाह हुआ व 2016 में पुत्र रत्न की प्राप्ति हुई फिर भी लेखन चलता रहा किन्तु उचित मार्गदर्शन के अभाव में उनका संचय न कर सका। फिर इस वर्ष जुलाई 2018 में मेरे एक पुराने मित्र जो मेरे अनुज समान हैं अंश रजौरा, जिन्होंने मेरी रचनाओं को नई दिशा देने के उद्देश्य से मुझे क्षितिज के फ़ेसबुक समूह में जोड़ा। क्षतिज का फेसबुक समूह जो कि गद्य, पद्य लेखकों व शायरों तथा विद्वानों का समुद्र है, वहाँ मेरी रचनाओं को बहुत प्रेम मिला और आज भी मिल रहा है। श्रीमति रंजीता अशेष जी ने, जो क्षितिज की संस्थापक हैं  हैं, मेरा बहुत साथ दिया मेरे इस प्रथम प्रकाशन में और मेरा उचित मार्गदर्शन भी किया।
कोई भी व्यक्ति कभी भी ज्ञान विज्ञान में पारंगत नही हो सकता। जीवन भर वह कुछ न कुछ नया सीखता ही रहता है। क्षितिज के माध्यम से मेरे कुछ मित्र बनें उनसे मैंने बहुत कुछ सीखा, आज भी सीख रहा हूँ और भविष्य में भी सीखता रहूँगा। उन्ही मित्रों में से दिलीप कुमार खान जी और विक्रम मिश्रा जी से मैंने विशेष रूप से बहुत कुछ सीखा। उन्होंने अपने अनुज की भाँति मेरा ज्ञानवर्धन किया, आज भी कर रहे हैं व स्नेह प्रदान कर रहे हैं। मेरे परिवार ने भी इन दिनों मुझे पूर्ण सहयोग प्रदान किया।
  श्रीमति रंजीता अशेष जी और पूरी क्षितिज टीम का मैं बहुत बहुत आभार व्यक्त करता हूँ। मैं सदैव क्षितिज के साथ रहूँगा और विश्वास है कि क्षितिज मेरे साथ रहेगा।

Reviews

There are no reviews yet.

Only logged in customers may leave a review.